GSEB Solutions Class 9 Social Science Chapter 2 प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति

   

Gujarat Board GSEB Textbook Solutions Class 9 Social Science Chapter 2 प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति Textbook Exercise Important Questions and Answers.

प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति Class 9 GSEB Solutions Social Science Chapter 2

GSEB Class 9 Social Science प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति Textbook Questions and Answers

1. निम्नलिखित प्रश्नों के मुद्दासहित उत्तर लिखिए:

प्रश्न 1.
पश्चिम युरोप और एशिया-अफ्रीका में उपनिवेश स्थापित करने की प्रक्रिया का वर्णन करों ।
उत्तर:
पश्चिमी युरोप में साम्राज्यवाद (उपनिवेशवाद):

  • साम्राज्यवादी लालसा ने उनके पड़ोसी राष्ट्रों पर अधिकार जमाया था । जैसे स्पेन ने नेदरलैण्ड, बेल्जियम और लक्जमबर्ग पर अधिकार जमाया ।
  • पूर्तगाल पर भी स्पेन ने अधिकार जमाया था ।
  • इसी तरह फ्रांस और ऑस्ट्रिया की प्रदेश भूख के शिकार इटली तथा जर्मनी बने ।

एशिया में उपनिवेशवाद:

  • इंग्लैण्ड ने भारत, श्रीलंका, म्यानमार, सिंगापुर, मलाया आदि में साम्राज्य स्थापित किया ।
  • इंग्लैण्ड ने अफीम युद्ध से चीन के पाँच बन्दरगाह प्राप्त कर लिये थे ।
  • चीन की कमजोरी का फायदा लेकर जापान, रूस, जर्मनी, फ्रांस, बेल्जियम और अमेरिका ने व्यापारिक, राजनैतिक अधिकार प्राप्त किये ।
  • पश्चिमी एशिया में इंग्लैण्ड, जर्मनी, रूस और अमेरिका ने ईरान, इराक, कुवैत, सउदी अरब और बहेरीन में तेल कंपनियाँ स्थापित करके अपने हितों की सुरक्षा करने का प्रयास किया ।

अफ्रीका में उपनिवेशवाद:

  • पंद्रहवी सदी में सर्वप्रथम अफ्रिका के दक्षिण में डचो, फिर इंग्लैण्ड ने केप और फ्रांस ने उत्तरी अफ्रिका के अल्जीरिया में व्यापारिक केन्द्र स्थापित किया ।
  • इंग्लैण्ड ने इजिप्त, पूर्व अफ्रीका के कई प्रदेश तथा दक्षिण अफ्रिका के देशों में राज्य स्थापित किया ।
  • फ्रांस ने ट्युनिशिया, मोरक्को और पश्चिम अफ्रीका में अपना राज्य स्थापित किया ।
  • इटली ने लालसागर के आसपास के क्षेत्रों पर कब्जा किया ।
  • स्पेन, पूर्तगाल ने भी अफ्रीका के कुछ प्रदेशों पर कब्जा किया ।
  • प्रादेशिक स्पर्धा के बीच बर्लिन में यूरोपियन राज्यों की एक परिषद 1984-85 में हुई । जिसमें अफ्रीका के अलग-अलग क्षेत्रों को बाँट लिया गया ।
  • इसके अनुसार समस्त अफ्रीका में युरोप के विविध देशों का साम्राज्य स्थापित किया ।

प्रश्न 2.
प्रथम विश्वयुद्ध के कारण बताते हुए तात्कालिक कारण की जानकारी दीजिए ।
उत्तर:
1 अगस्त, 1914 के दिन प्रथम विश्वयुद्ध का आरंभ हुआ था जिसके निम्नलिखित कारण थे :

  1. आर्थिक स्पर्धा
  2. सैन्यवाद
  3. गुजबंदी
  4. उग्र राष्ट्रवाद की भावना
  5. समाचारपत्रों का योगदान
  6. युद्ध संबंधी

तत्त्वज्ञान तत्कालीन कारण: ऑस्ट्रिया के राजकुमार और उसकी पत्नी की सर्विया के उग्रवादी संगठन ‘ब्लेक हेण्ड’ ने हत्या कर दी थी । इस घटना के पीछे सर्विया का हाथ होने का आरोप ऑस्ट्रिया ने लगाया और 48 घण्टों में अपराधी को गिरफ्तार करने का समय दिया । सर्विया ने स्वयं इस मामले में अनभिज्ञ होने की घोषणा की । ऑस्ट्रिया ने सर्विया की एक भी न सुनी और उसके विरुद्ध युद्ध घोषित कर दिया । इसके साथ ही प्रथम विश्वयुद्ध का आरंभ हुआ था ।

GSEB Solutions Class 9 Social Science Chapter 2 प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति

प्रश्न 3.
प्रथम विश्वयुद्ध के परिणाम लिखिए ।
उत्तर:
11 नवम्बर, 1918 के दिन जर्मनी के मित्र राष्ट्रों की शरणागति स्वीकारकर युद्ध विराम समझौते पर हस्ताक्षर करते ही प्रथम विश्वयुद्ध समाप्त हो गया था । जिसके निम्नलिखित परिणाम निकले:
(1) जानमाल की हानि:

  • इस युद्ध में एक करोड़ लोगों की मृत्यु, दो करोड़ घायल और सत्तर लाख लोग विकलांग हुए थे ।
  • युद्ध में कुल 337 अरब डॉलर का खर्च हुआ था ।

(2) सामाजिक परिवर्तन :

  • पुरुषों के युद्ध में शामिल होने पर पारिवारिक उत्तरदायित्व महिलाओं ने संभाला था, जिससे उनके आत्मविश्वास में वृद्धि हुई ।
  • समानता की भावना के उदय होने से स्त्रियों में मताधिकार की माँग उठी ।

(3) वर्सेल्स की संधि:

  • प्रथम विश्वयुद्ध के बाद जर्मनी पर वर्सेल्स की संधि थोपी गयी थी ।
  • इस संधि द्वारा जर्मनी पर 6.5 अरब युद्धदंड लादा गया । उसके कुछ प्रांत फ्रांस को सौंपे गये थे ।
  • इस संधि से जर्मन लोगों में हताशा और निराशा पैदा हुई । परिणामतः जर्मनी की अर्थव्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गयी ।

(4) दूरगामी परिणाम:

  • युद्ध में पराजित राष्ट्रों के साथ संधि की गयी थी, उसमें बैर की भावना था । इसलिए विश्व में शांति स्थापित नहीं हो सकी ।
  • अमेरिका राष्ट्रसंघ में शामिल नहीं हुआ और साम्यवादी रूप को उसमें स्थान नहीं दिया गया ।

2. संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए:

प्रश्न 1.
रूस की क्रांति
उत्तर:
रूस में जार के शासन में प्रजा के पास कोई अधिकार नहीं था ।

  • रूस के किसान, खेतदास तथा मजदूरों को बहुत अधिक मजदूरी के उपरांत पर्याप्त मुआवजा नहीं मिलता था । वे कंगाल हो गये ।
  • सेन्ट पीट्सबर्ग के पादरी फादर गोपेन के नेतृत्व में विशाल जुलूस के रूप में महल के सामने लोग इकट्ठा हुए ।
  • 22 जनवरी, 1905 के इस दिन जार के सैनिकों ने अंधाधुंध गोलियाँ चलाई । जिससे पूरा फर्श खून से लाल हो गया ।
  • इस घटना के दिन को खूनी रविवार कहते हैं ।
  • 1904-05 में जापान जैसे छोटे देश ने रूस को हरा दिया, जिससे जारशाही कमजोर पड़ने लगी । जार ने समयान्तरे चार डुमा बुलाई ।
  • 8 मार्च, 1917 को पेट्रोगार्ड के मजदूरों ने हड़ताल की । सेना ने उन पर गोली चलाने से मना कर दिया । इससे क्रांति का आरंभ हुआ ।
  • केरेन्सकी के नेतृत्व में मोन्शेविक पक्ष ने सत्ता अपने हाथ में ले ली ।
  • कार्ल मार्क्स के विचारों से बोल्शेविको को मोन्शेविको के विरुद्ध उकसाकर नवम्बर, 1917 में अंतिम क्रांति करके सत्ता प्राप्त की, जो समाजवादी बोल्शेविक क्रांति के रूप में जानी जाती है ।

GSEB Solutions Class 9 Social Science Chapter 2 प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति

प्रश्न 2.
प्रथम विश्वयुद्ध के दूरगामी कारण ।
उत्तर:
प्रथम विश्वयुद्ध के निम्नलिखित कारण थे:
(1) आर्थिक कारण: 19वीं सदी में इंग्लैण्ड ने एशिया तथा अफ्रीका में विशाल साम्राज्य स्थापित किया था । जर्मनी ने इंग्लैण्ड तथा फ्रांस की तुलना में सस्ते माल देना शुरू किया था । वह एशिया तथा अफ्रीका में इंग्लैण्ड तथा फ्रांस के बाजारों को तोड़ने लगा था । जिससे इंग्लैण्ड और जर्मनी के बीच आर्थिक स्पर्धा हुई थी ।

(2) सैन्यवाद: युरोप में प्रादेशिक विस्तार की चाह में सैन्य विस्तार अनिवार्य बन गया । इससे सैन्यवाद को बढ़ावा मिल गया और आर्थिक स्पर्धाओं में सैन्य स्पर्धा जुड़ जाने से युद्ध का वातावरण अधिक उग्र बन गया ।

(3) गुप्त संधियाँ: प्रथम विश्वयुद्ध से पहले विश्व दो गुटों में विभाजित हो गया था, जिनमें गुप्त संधियाँ होने लगी । वो प्रथम विश्वयुद्ध का कारण बनी ।
(4) उग्र राष्ट्रवाद की भावना: बेल्जियम और ग्रीस की स्वतंत्रता इटली और जर्मनी का एकीकरण राष्ट्रवाद का परिणाम था, परंतु उसके बाद युरोप में राष्ट्रवाद की भावना ने उग्र और संकुचित स्वरूप धारण कर लिया । जर्मनी तथा अन्य राष्ट्रों में युद्ध की भावना फैली और प्रथम विश्वयुद्ध में परिवर्तित हुई ।

(5) समाचार पत्र का योगदान: युरोप के राष्ट्रों के समाचारपत्रों की पारस्परिक कटुता, उत्तेजनापूर्वक, अतिशयोक्तिपूर्ण और झूठे लेखों ने परस्पर प्रतिस्पर्धी देशों के विरुद्ध जहर उगलकर लोगों में दुश्मनी की भावना इतने हद तक भड़काई की सत्ता में बैठे हुए लोग शांति स्थापना या समाधान करने के प्रयत्न भी न कर सकें ।

(6) युद्ध संबंधी तत्त्वज्ञान: युरोप में ‘युद्ध ही कल्याण’, ‘शक्तिशाली को जीने का अधिकार है’ तथा ‘युद्ध ही राष्ट्रीय आवश्यकता है’, ‘युद्ध ही पवित्र कार्य है’ माना जाने लगा था ।

प्रश्न 3.
राष्ट्रसंघ के उद्देश्य लिखिए ।
उत्तर:
राष्ट्रसंघ के उद्देश्य:

  • अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा की व्यवस्था करना ।
  • हर एक राष्ट्र द्वारा अन्य राष्ट्र की अखंडता बनाए रखना ।
  • युद्ध नीति का त्याग करना । अंतर्राष्ट्रीय संबंध विकसित करना ।
  • अंतर्राष्ट्रीय झगड़ों का शांतिपूर्वक ढंग से या मध्यस्थता द्वारा हल निकालना ।
  • यदि कोई राष्ट्र या मध्यस्थता की अवहेलना करे तो बागी. राष्ट्र घोषित करना ।

3. कारण बताइए:

प्रश्न 1.
प्रथम विश्वयुद्ध के बाद राष्ट्रसंघ की स्थापना हुई।
उत्तर:
प्रथम विश्वयुद्ध की भयानकता ने विश्व के देशों को विश्वशांति की अनिवार्यता समझाई और उसके लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन की आवश्यकता समझ में आने पर विश्वशांति की दिशा में तत्क्षण और सक्रिय रूप. से विचार करना पड़ा ।

  • अमेरिकन राष्ट्रपति वुड्रो विल्सन ने राष्ट्रसंघ की स्थापना में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई ।
  • वुड्रो विल्सन के 14 मुद्दों को आगे रखकर ‘पेरिस शांति’ प्रक्रिया में 10 जनवरी, 1920 को राष्ट्रसंघ की स्थापना की गयी ।

प्रश्न 2.
22 जनवरी, 1905 को रूस का ‘खूनी रविवार’ के रूप में जाना जाता है ।
उत्तर:
22 जनवरी, 1905 रविवार के दिन फादर गोपेन नामक पादरी के नेतृत्व में एक विशाल जुलूस के रूप में लोग जार के निवासस्थान विन्टर पैलेस गये । वे लोग निःशस्त्र थे ।

  • कुछ लोगों के हाथ में जार की तस्वीर थी और उसमें ‘रूस के छोटे प्रभु चिरंजीवी हो’ जैसे सूत्र लिखे हुए थे ।
  • उन निर्दोष लोगों पर जार के सैनिकों द्वारा अंधाधुंध गोलियाँ चलाई गयी ।
  • इसमें हजारों निर्दोष लोग मारे गये और जहाँ जार का महल था उस सेन्ट पिट्सबर्ग का फर्श खून से लाल हो गया ।
  • इसलिए इस दिन को इतिहास में खूनी रविवार के रूप में जाना जाता है ।

GSEB Solutions Class 9 Social Science Chapter 2 प्रथम विश्वयुद्ध और रूस की क्रांति

4. निम्नलिखित विकल्पों में से सही विकल्प चुनकर उत्तर लिखिए:

प्रश्न 1.
प्रथम विश्वयुद्ध के बीज किस संधि में बोये गये ?
(A) वर्सेल्स
(B) फ्रेन्कफर्ट
(C) फ्रांस और ब्रिटेन की संधि
(D) जर्मनी और हंगरी की संधि
उत्तर:
(B) फ्रेन्कफर्ट

प्रश्न 2.
प्रथम विश्वयुद्ध के अंत में कौन-सी संधि की गई ?
(A) वर्सेल्स की संधि
(B) गुप्त संधि
(C) लटेन की संधि
(D) फ्रेंकफर्ट की संधि
उत्तर:
(A) वर्सेल्स की संधि

प्रश्न 3.
फ्रेंकफर्ट की संधि में फ्रांस ने कौन-से प्रदेश खोया था ?
(A) ड्रेन्जिंग प्रदेश
(B) आल्सेस और लोरेन्स के प्रदेश
(C) पश्चिम रूस के प्रदेश
(D) इंग्लैण्ड के प्रदेश
उत्तर:
(B) आल्सेस और लोरेन्स के प्रदेश

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *