GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

   

Gujarat Board GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर Textbook Exercise Important Questions and Answers, Notes Pdf.

Gujarat Board Textbook Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

कच्छ की सैर अभ्यास

1. निम्नलिखित मुद्दों के संदर्भ में चार-पाँच वाक्य बोलिए :

प्रश्न 1.
1. मरुभूमि / रेगिस्तान
(2) कच्छ के तीन बड़े शहर
(3) कच्छ में स्थित धार्मिक स्थल
(4) कच्छ के ऐतिहासिक स्थल
उत्तर :
(1) मरुभूमि / रेगिस्तान : जिस प्रदेश में दूर-दूर तक रेत ही रेत दिखाई देती है, उसे मरुभूमि या रेगिस्तान कहते हैं। मरुभूमि में वर्षा बहुत कम या बिलकुल नहीं होती। यहाँ पानी के लिए दूर-दूर तक भटकना पड़ता है। कहीं-कहीं ऐसे स्थान होते हैं जहाँ भूमि से पानी निकलता है। ऐसे स्थानों को मरु-उद्यान कहते हैं। मरुभूमि के लोग प्रायः ऊँट पर प्रवास करते हैं। इसलिए ऊँट को ‘रेगिस्तान का जहाज’ कहा जाता है।

(2) कच्छ के तीन बड़े शहर : मांडवी, भूज और मुन्द्रा ये कच्छ के तीन बड़े शहर हैं। मांडवी अत्यंत सुंदर बंदरगाह है। यह बड़ा प्राचीन नगर है। यहाँ राजमहल, पवनचक्कियाँ तथा समुद्रतट दर्शनीय हैं। भूज वैभवशाली नगर है। यहाँ आयना महल, प्रागमहल, हिलगार्डन, स्वामिनारायण मंदिर, हमीरसर (तालाब), भूजिया पहाड़ आदि दर्शनीय स्थान हैं। मुन्द्रा में अनेक उद्योगों का विकास हुआ है। यहाँ कई प्राचीन इमारतें हैं।

(3) कच्छ में स्थित धार्मिक स्थल : भद्रेश्वर, नारायण सरोवर, लखपत तथा हाजीपीर ये कच्छ के मुख्य धार्मिक स्थल हैं। भद्रेश्वर प्राचीन जैन यात्राधाम है। यहाँ संगमरमर से बना 2500 वर्ष पुराना जिनालय भूकंप से खंडित हो गया था। अब आधुनिक ढंग से उसका पुनःनिर्माण किया जा रहा है। नारायण सरोवर पौराणिक धार्मिक स्थान है। यह रामायण काल का माना जाता है। लखपत में शीखों का गुरुद्वारा है। हाजीपीर मुसलमानों का पवित्र स्थान है।

(4) कच्छ के ऐतिहासिक स्थल : सामखीयाली के उत्तर में धोलावीरा एक ऐतिहासिक स्थान है। यहाँ भारत की अतिप्राचीन मोहन-जो-दड़ो संस्कृति के अवशेष पाए जाते हैं।

लखपत गुरु नानक की स्मृति से जुड़ा प्राचीन स्थल है। किसी समय यह एक समृद्ध नगर था। यहाँ का किला पुराने इतिहास की याद दिलाता है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

2. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए :

प्रश्न 1.
आप अपनी पाठशाला में से किसी यात्रा पर गए हों, तो उसका वर्णन अपने शब्दों में कीजिए।
उत्तर :
पिछले वर्ष दीपावली की छुट्टियों में हमारी पाठशाला की तरफ से माउंट आबू के प्रवास का आयोजन किया गया था। प्रवास में 45 विद्यार्थी और 3 शिक्षक थे।

आबू रोड़ तक की यात्रा हमने ट्रेन से की। आबू रोड़ से माउंट आबू जाने के लिए हम राजस्थान परिवहन निगम की बस में सवार हुए। दूर से आबू पर्वत दिखाई दिया। बस का मार्ग घुमावदार था। बस की गति भी बहुत धीमी थी। दोनों ओर भयानक खाइयाँ थीं। लेकिन हरियाली और ठंडे पवन के झोंके सुख दे रहे थे।

बहुत ऊँचाई पार करने के बाद हमारी बस रघुनाथ मंदिर के पास खड़ी हो गई। उस समय सुबह के दस बज रहे थे। उस समय वहाँ बड़ी चहल-पहल थी। सड़कों पर मेटाडोर, जीपें और कारें दौड़ रही थीं। जगह-जगह टूरिस्ट गाइड-सेंटरों, होटलों और यात्री-आवासों के साइन बोर्ड लगे हुए थे। हम पहले से ही आरक्षित एक लॉज में उतरे। दो कमरे थे जिनमें आधुनिक सभी सुविधाएँ थीं।

भोजन और विश्राम के बाद हम ऐतिहासिक देलवाड़ा मंदिर देखने गए। वहाँ की कला देखकर हम दंग रह गए। देवरानी-जेठानी मंदिर सचमुच बहुत सुंदर हैं। उनकी नक्काशी और शिल्प की बारीकी देखनेलायक है।

अगले दिन हमने टोड रॉक और पोलो ग्राउंड देखा। फिर हम वशिष्ठाश्रम गए। अचल गढ पर स्थित भतृहरी की गुफा देखी। हम अर्बुदा देवी के मंदिर भी गए। नखी तालाब में हमने नौकाविहार का मजा लूटा। एक दिन हमने आबू के सबसे ऊँचे गुरुशिखर पर दत्तात्रेय के पद-चिहनों के दर्शन किए। वहाँ के ऊँचे विशाल घंट को बजाया और उसकी मधुर ध्वनि का आनंद लिया। हमने वहाँ के ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विद्यालय की भी मुलाकात ली।

हम वहाँ तीन दिन रहे। सबने मिलकर खूब आनंद किया। उस प्रवास की यादें अभी तक मेरे मन में ताजा है।

प्रश्न 2.
आपने की हुई किसी यात्रा का वर्णन करते हुए अपने मित्र को पत्र लिखिए।
उत्तर :
14, सद्गुरु सोसायटी,
भक्तिनगर,
अहमदाबाद – 380 007.
20 नवंबर, 2013
प्रिय मित्र आरुषि,
सप्रेम नमस्कार।

आज सुबह ही तुम्हारा पत्र मिला। यह जानकर बहुत खुशी हुई कि तुम्हारी माताजी अब पूरी तरह स्वस्थ हो गई हैं।

हम दस दिन पहले कश्मीर-दर्शन के लिए गए थे। दो दिन पहले ही वहाँ से लौटे हैं। पहले हम नैनीताल गए थे। उसके बारे में जैसा सुना था, वैसा ही पाया! उसकी परिक्रमा करने में सचमुच बड़ा मजा अया। हम नयनादेवी के दर्शन करने गए। देवी की सुंदर मूर्ति ऐसी लगी जैसे अभी बोल उठेगी।

फिर हम श्रीनगर गए। सचमुच सुंदर नगर है। हमने सारा नगर घूमकर देखा। डलझील की सुंदरता ने हमारा मन मोह लिया। उसमें हमने शिकारे में बैठकर जलविहार का आनंद लिया। वूलर और मानसबल झीलें भी हमें बहुत अच्छी लगी, लेकिन वे डल का मुकाबला तो नहीं कर सकतीं। श्रीनगर और पहलगाँव के बीच केसर की क्यारियों से आ रही खुशबू ने हमें मदमस्त कर दिया। शालीमार और निशातबाग में घूमते हुए हमें स्वर्ग के नंदनवन में घूमने के जैसा आनंद आया।

मैंने वहाँ के कई स्थानों के फोटो लिए हैं। कुछ फोटो तुम्हें भेज रहा हूँ।

शेष मिलने पर।

तुम्हारा मित्र,
आलोक।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

3. दिए गए शब्द मिलें ऐसी पहेलियों का निर्माण कीजिए :

(1) सितारा
(2) हाथी
(3) चिराग
(4) पाठशाला
उत्तर :
(1) आकाश में रहता हूँ
रातभर चमकता हूँ।
दिन में छिप जाता हूँ,
सूर्यास्त होने के बाद,
फिर निकल आता हूँ।
चमचम चमकता हूँ, रहता हूँ मौन
प्यारे बच्चों बतलाओ, मैं हूँ कौन? (सितारा)

(2) गणपति जैसा मुँह है मैरा
काया खूब विशाल।
सबसे बड़ा जानवर हूँ मैं,
मस्त है मेरी चाल। (हाथी)

(3) मेरे रहने पर
अँधेरे की नहीं चल पाती।
मेरे दो साथी हैं तेल और बाती। (चिराग)

(4) ज्ञान का मंदिर हूँ,
सरस्वती का घर हूँ।
आओगे यदि मेरे पास,
पाओगे विद्या का प्रकाश। (पाठशाला)

कच्छ की सैर स्वाध्याय

प्रश्न 1.
दिए गए शब्दों को शब्दकोश के क्रम में लिखिए :
अभ्यास, विनय, संध्या, प्रगति, अभिवादन, महकना, संग्राम, शायर, हमदर्द, चिराग
उत्तर :
अभिवादन, अभ्यास, चिराग, प्रगति, महकना, विनय, शायर, संग्राम, संध्या, हमदर्द।

प्रश्न 2.
इस पाठ में आए प्रशासकीय शब्दों की सूची बनाकर उनका वाक्य में प्रयोग कीजिए।
उत्तर :

  • अधीक्षक (Superintendent) : मैं थाने में जाकर अधीक्षक से मिला।
  • प्रभाग (Division) : फिल्म-प्रभाग आज बंद था।
  • वरिष्ठ (Senior) : वे यहाँ वरिष्ठ अभियंता हैं।
  • कनिष्ठ (Junior) : कनिष्ठ अधिकारी योग्य व्यक्ति है।
  • सचिव (Secretary) : मंत्री ने अपने सचिव को बुलाया।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

प्रश्न 3.
नीचे दिए गए विशेषणों का वाक्य में प्रयोग कीजिए :
(1) दयावान
(2) मूल्यवान
(3) कृपालु
(4) थोड़ा-सा
(5) अच्छा
(6) सुंदर
(7) प्रियउत्तर :
(1) दयावान – राजा बहुत दयावान था।
(2) मूल्यवान – समय सबसे मूल्यवान वस्तु है।
(3) कृपालु-संत कृपालु होते हैं।
(4) थोड़ा-सा – दाल में थोड़ा-सा नमक ज्यादा है।
(5) अच्छा – मोहन एक अच्छा लड़का है।
(6) सुंदर – उद्यान में सुंदर फूल खिले हैं।
(7) प्रिय – गुलाब मेरा प्रिय पुष्प है।

प्रश्न 4.
दिए गए परिच्छेद का हिन्दी में अनुवाद कीजिए :
હિરણ નદીની પશ્ચિમ બાજુએ સૂરજદાદા વિદાય લઈ રહ્યા છે, સંધ્યાટાણે પંખીઓનાં ટોળાં પોતાના માળા ભણી ઊડી રહ્યાં છે, ભેંસોનું ખાડુ અને ગાયોનાં ધણ પોતાના માલિકના ઘર ભણી વળી રહ્યાં છે ત્યારે ઝરમર ઝરમર વર્ષાની શરૂઆત થઈ. સૌ અસહ્ય ગરમીની પીડામાંથી મુક્તિનો આનંદ લઈ રહ્યાં હતાં. માત્ર માનવ જ નહીં પશુ-પક્ષી અને જીવ-જંતુ પણ શાતા અનુભવવા લાગ્યાં.
उत्तर :
हिरण नदी की पश्चिम की तरफ सूरजदादा विदा ले रहे हैं। संध्या के समय पक्षियों की टोलियाँ अपने घोंसलों की ओर उड़ रही हैं। भैंसों का झुंड और गायों का समूह अपने मालिक के घर की ओर लौट रहा है। उस समय रिमझिमरिमझिम वर्षा शुरू हुई। लोग असह्य गर्मी की पीड़ा से मुक्ति का आनंद ले रहे थे। केवल मनुष्य ही नहीं, पशु-पक्षी और जीवजंतु भी शांति का अनुभव करने लगे।

The sun is setting to the west of Hiran river. The flocks of birds are returning to their nests at sunset. The herds of buffaloes and cows are returning to their owners’ houses when slow rain began. All are enjoying the freedom from unbearable pain of heat. Not only humanbeing but also the animals, birds and insects began to feel relief.

प्रश्न 5.
अपूर्ण कहानी पूर्ण कीजिए :
एक गाँव था। उस गाँव में एक गरीब किसान रहता था। उनके दो बेटे थे, बड़े का नाम रामू और छोटे का नाम…
उत्तर :
एक गाँव था। उस गाँव में एक गरीब किसान रहता था। उनके दो बेटे थे, बड़े का नाम रामू और छोटे का नाम लखन था।

रामू को खेल-कूद का शौक था। उसे निशानेबाजी में भी बहुत रुचि थी। बड़ा होकर वह भारतीय सेना में भर्ती हो गया। छोटे बेटे लखन को खेती-बारी का शौक था। उसने खेती की जिम्मेदारी संभाली और एक समृद्ध किसान बन गया।

भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ। रामू ने बड़ी बहादुरी दिखाई। उसने दुश्मन के छक्के छुड़ा दिए। लड़ाई खत्म होने पर सरकार ने उसे वीर-चक्र प्रदान किया। सेना में उसे ऊँचा पद दिया गया।

अब किसान बहुत खुश है। उसके बेटों ने ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा सार्थक कर दिखाया है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

Hindi Digest Std 8 GSEB कच्छ की सैर Important Questions and Answers

कच्छ की सैर प्रश्नोत्तर

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दो-दो वाक्यों में दीजिए :

प्रश्न 1.
कच्छ के गांधीधाम नगर की क्या विशेषता है?
उत्तर :
गांधीधाम औद्योगिक कारखानों का नगर है। यहाँ सिंधी प्रजा पाकिस्तान से आकर बस गई हैं।

प्रश्न 2.
भद्रेश्वर क्यों प्रसिद्ध है?
उत्तर :
भद्रेश्वर जैनों का अतिप्राचीन यात्राधाम होने के कारण प्रसिद्ध है। यहाँ जैनों का 2500 वर्ष पुराना संगमरमर से बना जिनालय है।

प्रश्न 3.
सही वाक्यांश चुनकर पूरा वाक्य फिर से लिखिए :
(1) कच्छ को हम ‘म्यूज़ियम’ कह सकते हैं, क्योंकि …
(अ) यहाँ तरह-तरह के पशु-पक्षी पाए जाते हैं।
(ब) यहाँ तरह-तरह की वनस्पतियाँ मिलती हैं।
(क) यहाँ अनेक दर्शनीय स्थानों का वैविध्य है।
उत्तर :
कच्छ को हम ‘म्यूज़ियम’ कह सकते हैं, क्योंकि यहाँ अनेक दर्शनीय स्थानों का वैविध्य है।

प्रश्न 4.
नखत्राणा लोकप्रिय स्थान है, क्योंकि …
(अ) यहाँ के लोगों के नाखून लंबे होते हैं।
(ब) यह प्राकृतिक नजारों का केन्द्र है।
(क) यहाँ के लोगों के नाखून बहुत छोटे होते हैं।
उत्तर :
नखत्राणा लोकप्रिय स्थान है, क्योंकि यह प्राकृतिक नजारों का केन्द्र है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

प्रश्न 5.
काला पहाड़ पर चढ़कर रेगिस्तान की झाँकी करना …
(अ) एक अनूठा अनुभव है।
(ब) बड़े साहस का काम है।
(क) बहुत साधारण बात है।
उत्तर :
काला पहाड़ पर चढ़कर रेगिस्तान की झाँकी करना एक अनूठा अनुभव है।

2. कोष्ठक से उचित शब्द चुनकर रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए : (सूरजबारी, मजार, सिंधी, आदीपुर, प्रवेशद्वार) ।

(1) सामखीयाली को हम कच्छ का ……………………………. कह सकते हैं।
(2) गांधीधाम में ……………………………. प्रजा पाकिस्तान से आकर बस गई है।
(3) हाजीपीर में पीर का ……………………………. है।
(4) गांधीस्मृति का स्थान ……………………………. में है।
(5) ……………………………. से कच्छ की यात्रा पूर्ण होती है।
उत्तर :
(1) सामखीयाली को हम कच्छ का प्रवेशद्वार कह सकते हैं।
(2) गांधीधाम में सिंधी प्रजा पाकिस्तान से आकर बस गई है।
(3) हाजीपीर में पीर का मजार है।
(4) गांधीस्मृति का स्थान आदीपुर में है।
(5) सूरजबारी से कच्छ की यात्रा पूर्ण होती है।

3. निम्नलिखित प्रत्येक प्रश्न के उत्तर के लिए दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प चुनिए ।

प्रश्न 1.
यह नगर जैसा लगनेवाला एक बड़ा गाँव है।
A. आदीपुर
B. गोपालपुरी
C. भचाऊ
D. मुन्द्रा
उत्तर :
C. भचाऊ

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

प्रश्न 2.
कंडला क्या है?
A. हवाई अड्डा
B. औद्योगिक नगर
C. पर्यटन केन्द्र
D. बंदरगाह
उत्तर :
D. बंदरगाह

प्रश्न 3.
कच्छ में बहत्तर जिनालय कहाँ हैं?
A. मांडवी में
B. लखपत में
C. गांधीधाम में
D. भद्रेश्वर में
उत्तर :
A. मांडवी में

प्रश्न 4.
‘सृजन’ कच्छ की कला का परिचय करानेवाली एक …………..’ है।
A. पुस्तक
B. संस्था
C. नगरी
D. कृति
उत्तर :
B. संस्था

कच्छ की सैर Summary in Hindi

कच्छ की सैर पाठ का सार

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 1
अनूठा रेगिस्तान : कच्छ में दो रेगिस्तान हैं : छोटा रेगिस्तान और बड़ा रेगिस्तान इनमें रेत नहीं पाई जाती। इसलिए ये अपनी तरह के अनूठे रेगिस्तान हैं।

सामखीयाली : इसे कच्छ का प्रवेशद्वार कहा जा सकता है। इसके उत्तर में रापर और धोलावीरा नगर हैं। धोलावीरा में मोहन-जो-दड़ो संस्कृति के अवशेष पाए जाते हैं।

सामखीयाली से पश्चिम की ओर : इस दिशा में भचाऊ, गांधीधाम, आदीपुर, गोपालपुरी जैसे औद्योगिक नगर हैं। आदीपुर में गांधीस्मृति केंद्र है। इसके पास ही कंडला बंदरगाह है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 2

भद्रेश्वर, मुन्द्रा, मांडवी : कंडला के दक्षिण में जैनों का प्राचीन यात्राधाम भद्रेश्वर है। मुन्द्रा का विकास एक बंदरगाह के रूप में हुआ है। मांडवी बहुत सुंदर बंदरगाह और प्राचीन नगर है। यहाँ कई स्थान दर्शनीय हैं।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

नलिया : प्रसिद्ध शहर है। यहाँ हवाई सेना का मुख्य अड्डा है।

नारायण सरोवर : यह अतिप्राचीन और पौराणिक स्थान है। कोटेश्वर यहाँ का दर्शनीय मंदिर है। यहाँ सूर्योदय और सूर्यास्त के दृश्य बड़े आकर्षक होते हैं।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 3

लखपत : इस प्राचीन स्थल में किसी समय गुरु नानक पधारे थे। यह भूमि उनकी चरणरज से पावन हुई है। यहाँ एक गुरुद्वारा है।

हाजीपुर : यह स्थान मुसलमानों का श्रद्धाकेन्द्र है। पास ही नखत्राणा अपने प्राकृतिक दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है।

भूज : यह कच्छ का मुख्य केन्द्र है। यहाँ आयना महल, प्रागमहल, टावर, स्वामिनारायण मंदिर, हिलगार्डन आदि कई दर्शनीय स्थल हैं। यहाँ का हमीरसर तालाब प्रसिद्ध है। यहाँ विश्वविद्यालय भी है।

काला पहाड़ : इस पहाड़ पर प्रतिवर्ष रणोत्सव का आयोजन होता है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 4

जेसल-तोरल की समाधि : अंजार में जेसल-तोरल की स्मृति में बना मंदिर दर्शनीय है।

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

सूरजबारी : यहाँ कच्छ यात्रा की समाप्ति होती है।

कच्छ की सैर Summary in English

Peculiar desert: There are two deserts in Kachchh : small desert and big desert. Both the deserts are peculiar because there is no sand here.

Samkhiyali : We can say that it is the gateway of Kachchh. Rapar and Dholavira towns are to its north. Ruins of Mohan-Jo-Dado’s civilization are found in Dholavira.

To the west from Samkhiyali : There are industrial towns like Bhachau, Gandhidham, Adipur, Gopalpuri in this direction. The Gandhi – memorial centre is in Adipur. Near it there is Kandala port.

Bhadreshwar, Mundra, Mandavi : The ancient Jain place of pilgrimage Bhadreshwar is situated in the south from Kandala. Mundra has been developed as a port Mandavi is a nice port and an ancient town. Many visiting places are here.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 5

Naliya : Naliya is a famous city. The main centre of airforce is here.

Narayan Sarovar : It is a very ancient and mythological place. Here Koteshwar is a worshiping temple. The scenes of the sunrise and the sunset are very attractive.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

Lakhpat : This is a very ancient place which was once visited by Guru Nanak. There is Gurudwara in this place which has become sacred with particles of dust of his feet.

Hajipur: This is a holy place of Muslims. Near it is Nakhatrana which is famous for its natural scenes.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 6

Bhuj: This is the main centre of Kachchh. Here Aainamahal, Pragmahal, Tower, Swaminarayan temple, Hillgarden, etc. are visiting places. Here Hamirsar is famous. There is also a university here.

Kalo Dungar (Black Mountain) : The Ranotsav is organised here on this mountain every year.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

Jesal – Toral temple : The temple made in the memory of Jesal – Toral in Anjar is also a historical leaving immemorable rememberances place. Surajbari : The Kachchh pilgrim ends here.

कच्छ की सैर Summary in Gujarati

ગુજરાતી સારાંશ

અનોખું રણ : કચ્છમાં બે રણ છે : નાનું રણ અને મોટું રણ. આ બંને અનોખાં રણ છે, કારણ કે અહીં રેતી નથી.

સામખિયાલી આને કચ્છનું પ્રવેશદ્વાર કહી શકાય. એની ઉત્તરે રાપર અને ધોળાવીરા નગર છે. ધોળાવીરામાં મોહન-જો-દડો સંસ્કૃતિના અવશેષો મળી આવે છે.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 7

સામખિયાલીથી પશ્ચિમ તરફ : આ દિશામાં ભચાઉ, ગાંધીધામ, આદીપુર, ગોપાલપુરી જેવાં ઔદ્યોગિક નગરો છે. આદીપુરમાં ગાંધીસ્મૃતિનું કેંદ્ર છે. એની પાસે જ કંડલા બંદર છે.

ભદ્રેશ્વર, મુંદ્રા, માંડવી : કંડલાથી દક્ષિણે જૈનોનું પ્રાચીન યાત્રાધામ ભદ્રેશ્વર આવેલું છે. મુંદ્રાનો વિકાસ એક બંદરરૂપે થયેલો છે. માંડવી ખૂબ સુંદર બંદર અને પ્રાચીન નગર છે. અહીં અનેક દર્શનીય સ્થાનો આવેલાં છે.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

નલિયા: નલિયા પ્રસિદ્ધ શહેર છે. અહીં વાયુસેનાનું મુખ્ય મથક છે.

નારાયણ સરોવર : આ અતિપ્રાચીન અને પૌરાણિક સ્થાન છે. કોટેશ્વર અહીંનું દર્શનીય મંદિર છે. અહીંના સૂર્યોદય અને સૂર્યાસ્તનાં દશ્યો ખૂબ મનોહર હોય છે.

લખપત આ અત્યંત પ્રાચીન સ્થળે એક સમયે ગુરુ નાનક પધાર્યા હતા. તેમની ચરણરજથી પાવન આ ભૂમિમાં એક ગુરુદ્વારા છે.

હાજીપુરઃ આ સ્થાન મુસલમાનોને શ્રદ્ધાકેન્દ્ર છે. નજીકમાં જ નખત્રાણા છે જે પોતાનાં પ્રાકૃતિક દશ્યો માટે પ્રસિદ્ધ છે.

ભૂજ: આ કચ્છનું મુખ્ય કેન્દ્ર છે. અહીં આઇનામહલ, પ્રાગમહલ, ટાવર, સ્વામિનારાયણ મંદિર, હિલગાર્ડન વગેરે અનેક દર્શનીય સ્થળો છે. અહીંનું હમીરસર પ્રસિદ્ધ છે. અહીં વિશ્વવિદ્યાલય પણ છે.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर 8

કાળો ડુંગરઃ આ પહાડ પર દર વર્ષે રણોત્સવનું આયોજન થાય છે.

જેસલ-તોરલનું મંદિરઃ અંજારમાં જેસલ-તોરલની સ્મૃતિમાં બનેલું મંદિર પણ દર્શનીય છે.

GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर

સૂરજબારી અહીંથી કચ્છયાત્રા સમાપ્ત થાય છે.

विषय-प्रवेश
कच्छ गुजरात राज्य का एक जिला है। भारत की प्राचीन मोहन-जो-दड़ो संस्कृति के अवशेष यहाँ पाए जाते हैं। यहाँ के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक तथा धार्मिक स्थानों का महत्त्व आज भी कायम है। भुज कच्छ का मुख्य नगर है। इस पाठ में कच्छ प्रदेश के बारे में बहुत-सी जानकारी बड़े ही रोचक ढंग से दी गई है।

कच्छ की सैर शब्दार्द्ध (Meanings)

  • दर्शनीय – देखने लायक; visiting
  • सौंदर्य – सुंदरता; beauty
  • अनूठा – अनोखा; peculiar
  • रमणीय – सुंदर; attractive, beautiful
  • पौराणिक – पुराणों के समय का, धार्मिक; mythological; religious
  • वैविध्य – विविधता; variety
  • रेगिस्तान – रेतीला प्रदेश; desert
  • प्रवेशद्वार – अंदर जाने का मुख्य दरवाजा; gateway
  • अवशेष – बचे हुए टूटे-फूटे हिस्से; ruins
  • आधुनिकता – नवीनता; modernity
  • औद्योगिक – उद्योगों से संबंधित; industrial
  • स्थायी – कायमी, हमेशा के लिए रहनेवाला; permanent
  • बंदरगाह – समुद्री जहाजों के ठहरने का स्थान; port
  • तटीय – किनारे की; coastal
  • ग्राम्य – ग्रामीण, गाँव के लोगों से संबंधित; rural
  • जिनालय – जैन मंदिर; Jain temple
  • आंतरराष्ट्रीय – सब राष्ट्रों से संबंधित; international
  • चरणरज – पाँवों की धूल; particles of dust of feet
  • गुरुद्वारा – सिक्खों का प्रार्थना स्थल; holy place of Shikhs, Gurudwara
  • समृद्ध – धन-दौलत से भरपूर; prosperous
  • जीर्णावस्था – टूटी-फूटी हालत; very old condition
  • झाँकी – दर्शन, दृश्य; glimpse, scene
  • पदयात्रा – चलकर की जानेवाली यात्रा; pilgrimage on foot
  • नजारा- दृश्य; scene GSEB Solutions Class 8 Hindi Chapter 2 कच्छ की सैर
  • मनोहारी – सुंदर; attractive
  • भूचाल – भूकंप; earthquake
  • खंडित करना – तोड़-फोड़ देना; to break
  • पुनः – फिर से; again
  • रणोत्सव – रेगिस्तान में मनाया जानेवाला उत्सव; festival which is celebrated in desert, Ranotsav

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *