GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

   

Gujarat Board GSEB Hindi Textbook Std 11 Solutions Chapter 19 डंका Textbook Exercise Important Questions and Answers, Notes Pdf.

GSEB Std 11 Hindi Textbook Solutions Chapter 19 डंका

GSEB Std 11 Hindi Digest डंका Textbook Questions and Answers

स्वाध्याय

1. निम्नलिखित दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प चुनकर प्रश्नों के उत्तर लिखिए :

प्रश्न 1.
कवि किस व्यवस्था की निर्दयताओं को खत्म करना चाहते हैं ?
(क) अर्थ व्यवस्था
(ख) ज्ञाति व्यवस्था
(ग) धर्म व्यवस्था
(घ) समाज व्यवस्था
उत्तर :
कवि जाति-व्यवस्था की निर्दयताओं को खत्म करना चाहते हैं।

प्रश्न 2.
कवि तरह – तरह के धंधे को कैसा बनाना चाहते हैं.?
(क) उत्कृष्ट
(ख) समान
(ग) निम्न
(घ) मध्यम
उत्तर :
कवि तरह-तरह के धंधे को उत्कृष्ट बनाना चाहते हैं।

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

प्रश्न 3.
कवि के विचार से ब्रह्मांड को कौन चलाता है ?
(क) एक ईश्वर
(ख) धर्म के अनुयायी
(ग) सूर्य
(घ) चंद्र
उत्तर :
कवि के विचार से एक ईश्वर ब्रह्मांड को चलाता है।

प्रश्न 4.
हर इन्सान को क्या मिलने से दुनिया मुक्त हो जायेगी ?
(क) धन
(ख) शिक्षा
(ग) समानता
(घ) मकान
उत्तर :
हर इनसान को समानता मिलने से दुनिया मुक्त हो जायेगी।

2. निम्नलिखित प्रश्नों के एक-एक वाक्य में उत्तर दीजिए :

प्रश्न 1.
कवि कौन-सी बात बताना चाहते हैं ?
उत्तर :
कवि अपने मन की वह बात बताना चाहते है, जो सच है और सारे शहर के हित में है।

प्रश्न 2.
कवि किस व्यवस्था को खत्म करना चाहते हैं ?
उत्तर :
कवि निष्ठुर जाति-व्यवस्था को खत्म करना चाहते हैं।

प्रश्न 3.
स्त्रियों की राह किसने रोक ली है ?
उत्तर :
स्त्रियों को भगवान ने बुद्धिमान बनाया है, पर किसी मूर्ख व्यक्ति ने उनके विकास की राह रोक ली है।

प्रश्न 4.
ईश्वर के बारे में संघर्ष की गुंजाइश क्यों नहीं है ?
उत्तर :
ईश्वर के बारे में संघर्ष की गुंजाइश नहीं है, क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति उसी ईश्वर की आराधना करना है, जो सारी दुनिया का संचालन करता है। फिर आपस में लड़ने की क्या जरूरत है?

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

3. निम्नलिखित प्रश्नों के दो-दो वाक्यों में उत्तर दीजिए :

प्रश्न 1.
भगवान कवि को किस काम के लिए मदद करेंगे ?
उत्तर :
कवि जाति-व्यवस्था की निर्दयताओं को खत्म करना चाहते हैं। इससे दुनिया लोगों के रहने के लिए खुशहाल हो जाएगी। वे एक-दूसरे की रोजी-रोटी में मदद करना चाहते हैं और विभिन्न धंधों को उत्तम बनाना चाहते हैं। भगवान कवि को इन कामों में मदद करेंगे।

प्रश्न 2.
दुनिया खुशहाल कब होगी ?
उत्तर :
देश में हर जगह जाति-व्यवस्था का बोलबाला है। इस निर्दयता में लोग पिस रहे हैं। जाति-व्यवस्था की निर्दयताएं समाप्त हो जाने पर दुनिया खुशहाल हो जाएगी।

प्रश्न 3.
संसार से अज्ञान के अंधकार को औरतें कैसे भगा देंगी ?
उत्तर :
औरतें बुद्धिमान होती हैं। यदि औरतों की बुद्धिमानी को बढ़ावा दिया जाए, तो वे संसार से अज्ञान के अंधकार को भगा देंगी।

प्रश्न 4.
दुनिया इतनी बड़ी क्यों है ?
उत्तर :
दुनिया बहुत बड़ी है। उसमें सभी मनुष्यों को भाई-भाई की तरह रहना चाहिए। दुनिया इतनी बड़ी इसलिए है कि इसमें सभी लोग अच्छी तरह बस सकें और रह सकें।

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

प्रश्न 5.
कवि आदमी के हक के बारे में क्या कहते हैं. ?
उत्तर :
कवि दुनिया के हर इनसान को समानता देने के पक्ष में हैं। वे कहते हैं कि कभी भी कोई किसी का हक न मारे।

4. निम्नलिखित प्रश्नों के पाँच-छ: पंक्तियों में उत्तर दीजिए :

प्रश्न 1.
‘डंका’ काव्य के आधार पर कवि क्या सीख देना चाहते हैं ?
उत्तर :
‘डंका’ काव्य में कवि श्री भारती कहते हैं कि दुनिया के लोगों को खुशहाल बनाने के लिए जाति-व्यवस्थारूपी निष्ठुरता को समाप्त किया जाए। स्त्रियों की बुद्धिमत्ता पर विश्वास किया जाए और उनके प्रति हो रहे अन्याय को दूर किया जाए। स्त्रियों को पुरुषों के समान ही विकास का अवसर दिया जाए। सारी दुनिया में एक ही ईश्वर की सत्ता है, फिर धर्मों के नाम पर लड़ने की क्या जरूरत है। लोग जगह के लिए युद्ध न करें। कोई किसी का हक न मारे और सब समानता और स्वतंत्रतापूर्वक प्रेम-भाव से रहें। इस प्रकार डंका काव्य में कवि लोगों को प्रेम, समानता, स्वतंत्रता और भाईचारे का संदेश देते हैं।

प्रश्न 2.
अच्छा जीवन किसे कहते हैं ?
उत्तर :
जिस समाज में जाति-व्यवस्था के आधार पर लोगों से की भावना रखते हों। जहाँ स्त्रियों के प्रति अन्याय न किया जाता हो और उन्हें भी विकास का पूरा अवसर दिया जाता हो। जहाँ धर्मों को लेकर आपसी संघर्ष न हो और लोग भाई-भाई की तरह प्यार से रहते हों। जहाँ सबको भरपेट भोजन मिलता हो और शिक्षित लोग परिश्रम करके जीते हों। जहाँ सबको समानता का दर्जा मिला हो और सबको स्वतंत्रता से जीने का अधिकार हो। ऐसे देश और समाज के जीवन को अच्छा जीवन कहते हैं।

GSEB Solutions Class 11 Hindi डंका Important Questions and Answers

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक-एक वाक्य में लिखिए :

प्रश्न 1.
एक आंख बंद कर लेना क्यों समझदारी नहीं है?
उत्तर :
एक आँख बंद कर लेना समझदारी नहीं है, क्योंकि उससे स्त्री को पुरुष के समान विकास करने का अवसर नहीं मिलेगा और मनुष्य का एक पक्ष सदा अंधेरे में रह जाएगा।

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

प्रश्न 2.
एक आँख बंद कर लेने का क्या अर्थ है?
उत्तर :
एक आँख बंद कर लेने का अर्थ है – स्त्रियों की बुद्धि
पिछड़ेपन के अंधकार में बनाए रखना।

प्रश्न 3.
हर इनसान को समानता मिलने पर क्या होगा?
उत्तर :
हर इनसान को समानता मिलने पर लोग स्वतंत्रता का अनुभव करेंगे और उनमें आपसी प्रेम-भाव बढ़ेगा।

व्याकरण

समानार्थी शब्द पहचानिए :

  • उत्कृष्ट = उत्तम
  • निर्दयता = क्रूरता
  • व्यवस्था = इन्तजाम
  • मेधा = बुद्धि
  • गुंजाइश = अवसर

विरुद्धार्थी शब्द लिखिए :

  • निर्दयता × दयालुता
  • खुशहाल × बदहाल
  • उत्कृष्ट × निकृष्ट
  • नुकसान × फायदा
  • समानता × विषमता
  • हक × फर्ज

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

शब्दों में से उपसर्ग अलग कीजिए :

  • निर्दयता – निर्
  • खुशहाल – खुश
  • उत्कृष्ट – उत्
  • अज्ञान – अ
  • अनुदित – अन
  • व्याप्त – वि

शब्दों में से प्रत्यय अलग कीजिए :

  • बुद्धिमानी – ई
  • दर्शनीयता – ता
  • बढ़ावा – आवा
  • शिक्षित – इत
  • समानता – ता
  • गृहस्थ – स्थ

डंका Summary in Gujarati

ભાવાત્મક અનુવાદ :

કવિ કહે છે કે મને તે વાત કહેવા દો જે મારા મનમાં છે. મને લાગે છે કે એ વાત આખા શહેરના હિતમાં છે. હું જાણું છું એ સત્ય મને કહેવા દો. આ કામમાં ભગવાન મારી મદદ કરશે.

આવો, આપણે જાતિવ્યવસ્થારૂપી નિષ્ફરતાને સમાપ્ત કરી , દઈએ અને એનું નામ-નિશાન ભૂંસી નાખીએ. એ પછી આ દુનિયા લોકોને રહેવા માટે આનંદદમય બની જશે. આવો, એકબીજાને ગુજરાન ચલાવવામાં મદદ કરીએ. આપણે તેમને માટે જાતજાતના વ્યવસાયને ઉત્તમ બનાવીએ.

સ્ત્રીઓ પ્રત્યે થતા અન્યાયનો સંકેત કરતાં કવિ કહે છે કે ઈશ્વરે સ્ત્રીઓને બુદ્ધિશાળી બનાવી છે, પરંતુ દુનિયામાં કોઈ મૂર્ખ વ્યક્તિએ તેમના વિકાસના માર્ગમાં અવરોધ ઊભો ર્યો છે.

તેઓ બુદ્ધિની બાબતમાં સ્ત્રીઓને થતા અન્યાયની આલોચના કરતાં હતા કે સ્ત્રી અને પુરુષ મનુષ્યની બે આંખો છે. એક આંખ બંધ કરવી કોઈ રીતે બુદ્ધિયુક્ત નથી. સ્ત્રીઓને પણ પુરુષ સમાન વિકાસ કરવાની તક મળવી જોઈએ. નહિ તો મનુષ્યનો એક ભાગ હંમેશાં અંધકારમાં જ રહેશે.

કવિ કહે છે કે સ્ત્રીઓમાં અજ્ઞાન દૂર કરવાની શક્તિ હોય છે, જો તેમની બુદ્ધિની પ્રશંસા કરવામાં આવે, તેમને પ્રોત્સાહન આપવામાં આવે, તો સ્ત્રીઓ આખા સંસારનું અજ્ઞાન દૂર કરી શકે છે.

પ્રત્યેક વ્યક્તિ તે ઈશ્વરની આરાધના કરે છે, જે આખી દુનિયાનું સંચાલન કરે છે. તેઓ કહે છે કે આખી દુનિયામાં એક જ ઈશ્વરની સત્તા છે. આ વાતનો દરેક વ્યક્તિએ સ્વીકાર કરવો જોઈએ. પછી આપણને પરસ્પર લડવાની શી જરૂર છે?

કવિ કહે છે કે આ દુનિયા ખૂબ વિશાળ છે. તેમાં સૌને રહેવા માટેની જગ્યા આપવાની શક્તિ છે. આ દુનિયામાં સૌ લોકો ભાઈ-ભાઈની જેમ રહે. આપણે એકબીજા સાથે કારણ વગર લડીએ નહિ. કવિ કહે છે કે લોકોએ પોતાનું ધ્યાન એ તરફ રાખવું જોઈએ કે દુનિયાના દરેક મનુષ્યને પેટપૂરતું ભોજન મળે છે કે નહિ.

આપણે જનતાને શિક્ષિત કરીએ, પોતાની જમીન પર મહેનત કરીને અન્ન ઉત્પન્ન કરીએ, જેથી લોકો ભૂખ્યા ન રહે. બધા લોકો સારું જીવન જીવે. આપણે કદી કોઈનો હક છીનવી ન લઈએ. કદી બેઈમાની ન કરીએ.

દુનિયામાં દરેક મનુષ્યને સમાનતા મળવી જોઈએ, સૌ લોકો સમાન હશે તો કોઈનું કશું નુકસાન થશે નહિ, દુનિયાના સૌ લોકો સ્વતંત્ર હશે અને તેમનામાં પરસ્પર પ્રેમભાવ હશે.

GSEB Solutions Class 11 Hindi Chapter 19 डंका

डंका Summary in Hindi

विषय-प्रवेश :

प्रस्तुत कविता तमिल भाषा से हिन्दी में अनूदित है। कवि के मन में शहरों को रहने योग्य बनाने की उत्कट कामना है। वे स्त्रियों की मेधा को बढ़ावा देने, जाति-पात का भेद-भाव मिटाने, लोगों से आपस में मिलकर रहने, एकदूसरे को मदद करने, लोगों की भूख मिटाने और उन्हें शिक्षित करने, सबको उसका उचित हक देने तथा दुनिया के हर इनसान को समानता का अधिकार देने का संदेश देते हैं।

मुहावरे – अर्थ और वाक्य-प्रयोग

आँख बंद करना-ध्यान न देना
वाक्य : असहाय बूढ़े की पिटाई होती रही और लोग आंख बंदकर देखते रहे।

राह रोकना-बाधक बनना
वाक्य : बेटी की पढ़ाई छुड़ाकर घर गृहस्थी का काम करने के लिए कहकर पिता ने बेटी की राह रोक दी।

कविता का सरल अर्थ :

मुझे बताने दो…. मदद करेंगे।

कवि कहते हैं कि मुझे वह बात बताने दीजिए जो मेरे मन में है; मुझे लगता है कि यह बात सारे शहर के हित में हैं। मैं उसे जानता हूँ। उस सच को मुझे बता देने दो। इस काम में भगवान मेरी मदद करेंगे।

जाति-व्यवस्था ….. उत्कृष्ट बनाएं।

आओ, हम जाति-व्यवस्थारूपी निष्ठुरता को समाप्त कर दें और इसका नामोनिशान मिटा दें। इसके बाद यह दुनिया लोगों के रहने के लिए खुशहाल हो जाएगी।
आओ, हम एकदूसरे की जीविका चलाने में मदद करें। हम उनके लिए तरह-तरह के धंधों को और उत्तम बनाएँ।

परमात्मा ने ……… रोक दी।

कवि स्त्रियों के साथ हो रहे अन्याय की ओर इशारा करते हुए कहते हैं कि ईश्वर ने स्त्रियों को बुद्धिमान बनाया है, पर दुनिया में किसी मूर्ख व्यक्ति ने उनके विकास का मार्ग अवरुद्ध कर दिया है।

यह कहाँ की … कर ली जाए?

वे बुद्धि के मामले में स्त्रियों पर होनेवाले अन्याय की आलोचना करते हुए कहते हैं कि स्त्री और पुरुष मनुष्य की दो आँखें हैं। एक आँख बंद कर देने में कोई बुद्धिमानी नहीं है। स्त्री को भी पुरुष के समान विकास करने का अवसर मिलना चाहिए। वरना मनुष्य का एक पक्ष सदा अँधेरा ही रहेगा।

औरतों को ……… भगा देंगी।

कवि कहते हैं कि स्त्रियों में अज्ञान को दूर करने की शक्ति होती है। यदि उनकी बुद्धि की सराहना की जाए, उसे बढ़ावा दिया जाए, तो स्त्रियाँ सारे संसार से अज्ञान को दूर कर सकती हैं।

सभी जन…. कहाँ गुंजाइश है।

वे कहते हैं, प्रत्येक व्यक्ति उसी ईश्वर की आराधना करता है, जो सारी दुनिया का संचालन करता है। वे कहते हैं कि सारी दुनिया में एक ही ईश्वर की सत्ता है। इस बात को हर व्यक्ति को स्वीकार करना चाहिए। फिर हमें आपस में लड़ने की क्या जरूरत है?

सभी लोग ……. काफी है या नहीं।

कवि कहते हैं कि यह दुनिया बहुत विशाल है। उसमें सब को रहने के लिए जगह देने का सामर्थ्य है। इस दुनिया में सभी लोग भाई-भाई की तरह प्यार से रहें। हम एकदूसरे से अकारण युद्ध न करें। कवि कहते हैं कि लोगों को अपना ध्यान इस ओर लगाना चाहिए कि क्या दुनिया के हर व्यक्ति को भरपेट भोजन मिलता है या नहीं।

लोगों को शिक्षित ……. मुक्त होगी।

हम जनता को शिक्षित करें। हम अपनी जमीन में मेहनत कर अन्न उपजाएं, ताकि लोग भूखे न रहें। सब लोग अच्छा जीवन जीएं। हम कभी भी किसी का हक न मारें, कभी बेईमानी न करें।

दुनिया में हर इनसान को समानता का दर्जा मिलना चाहिए। सब लोग समान होंगे, तो किसी का भी कोई नुकसान नहीं होगा। बल्कि दुनिया के लोग स्वतंत्र होंगे। उनमें आपसी प्रेम-भाव होगा।

डंका शब्दार्थ :

  • निर्दयता – निष्ठुरता, बेरहमी।
  • खुशहाल – संपन्न, धन से सुखी।
  • रोजी-रोटी – जीविका।
  • उत्कृष्ट – श्रेष्ठ, उत्तम।
  • विवेक – बुद्धिमत्ता।
  • दर्शनीयता – जो दर्शन योग्य हो।
  • मेधा – बुद्धि।
  • अज्ञान – जड़ता, मूर्खता।
  • ब्रह्मांड – संपूर्ण विश्व।
  • सर्वत्र – सब जगह।
  • व्याप्त – फैला या छाया हुआ।
  • गुंजाइश – संभावना, अवकाश।
  • बसाना – रहने के लिए जगह देना।
  • मुक्त – स्वतंत्र।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *